Google+ Followers

बुधवार, 7 दिसंबर 2016

याज्ञवल्कय के अनुसार नई दुल्हन विवाह होने के प्रथम वर्ष के भीतर ज्येष्ठ ,आषाढ़ व मलमास में यदि अपने ससुराल में निवास करती है तो क्रमश अपने जेठ ,सास ससुर व स्वयं का नाश करती है . इसी प्रकार यदि कन्या चैत्र मॉस में मॉस में अपने पिता के घर निवास करती है तो पिता की हानि होती है.
    

11 टिप्‍पणियां:

  1. guruvar pranam,
    2 salo se aapke lekh padhta aa raha hoon or hamesha aapke naye lekh ka intjaar rahta hai.aapko padh kar meri jyotish mai ruchi ho gayi hai.aapki abhivyakti ka saral tarika maan ko chu jaata hai....ishwar aapki kirti ko yu hi badhate rahe.
    aapse thoda nivedan hai ki aapne opal stone pahnne ko kaha tha vo mai konse din kab pahnu...kripya mera samadhan kare

    sonu malviya DOB-09/11/1978 PALI(RAJ.)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. 09/11/1978 TIME 01:15 PM

      हटाएं
    2. किसी भी शुक्रवार अथवा शुक्र के नक्षत्र अथवा गुरुवार के दिन जिस दिन तृतीय अथवा द्वादश तिथिनहो,उस दिन समयकाल देखकर ओपल धारण करना शुभ कहा गया है

      हटाएं
  2. गूरूजी मेरी समस्या का हल किजीए।
    मेरी जन्म तारीख 1/12/1994 हैं।
    जन्म समय 5:15 मिनट शाम को हैं ।
    जन्मस्थान आजमगढ U.P. हैं।
    मैं यह जानना चाहता हूँ कि मैं किस क्षेत्र में नौकरी ढूँढने कि कोशिश करूँ ।
    मैं संचार क्षेत्र में जाऊँ, कि कंम्पयूटर networking में कोशिश करूँ या ईलेक्ट्रीकल इलेक्ट्रॉनिक चीजो के निर्माण का क्षेत्र चुनू।मैंने ईलेक्ट्रोनिकस ईजीनियरिग की हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ललित जी को सादर प्रणाम. भगवन क्या मै अपना मकान बना पाउंगा और मेरी कुंडली में कौन से दोश है, जिसकी वजह से मै तरक्की नही कर पा रहा हूं, बतायेंगे तो आपका आभारी रहूँगा. 22/4/1977,4:25pm kanpur, धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप अपने जीवनसाथी के नाम से मकान बनाने का प्रयास करें,प्रभु की कृपा से सन 2019 तक आप अपने घर का निर्माण कर चुके होंगे...आपको चाहिए कि इस समय आप जहाँ भी रह रहे हैं,उसके ईशान कोण के कमरे में निवास करें..एक साधारण सा सवा दस रत्ती मोती चांदी मे धारण कर लें..साथ ही विदेशी लोगों व संस्थानों से जुड़ने का प्रयास करें..पिता की भूमि आपको त्यागनी ही है..बाकी मित्र मैं भी आपके जैसा साधारण मनुष्य हूँ अतः भगवन जैसा संबोधन कर लज्जित न करें..आपको भी सादर प्रणाम,,शिव सदैव आपके रक्षक रहें

      हटाएं
  4. pranam guruji muje aapki jyotish vidya bahut prabhavit karti hai.
    meri samasya ka samdhan karene ki kripa kare
    Name:-Nitin Garg
    DOB:-3 january 1985
    Time 18:56 PM
    Place:-Nasirabad Rajsthan

    Muje naukri sahi nahi mil rahi hai mai bahut pareshan hu.
    Kripiya muj par apni kripa kare.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नितिन जी,,हौसला बढ़ाने के लिए आभार,,ये सब आप सुधि पाठकों का आशीर्वाद ही है जो निरंतर कलम घसीटने का हौसला दे रहा है...आय भाव से बनने वाले ग्रहण व कालसर्प दोष का परिणाम ही आप देख रहे हैं..किन्तु निराश न होइए,,,इस वर्ष की अंतिम तिमाही से आपके रोजगार के योग पुष्ट हो रहे हैं..आप मोती व माणिक एक साथ विधिविधान से धारण करें तथा घर के दक्षिणी कमरे में निवास करें..

      हटाएं
  5. प्रभु सादर प्रणाम मेरी बिटिया कक्षा 10 वीं की परीक्षा दे रही है। आगे डाक्टर बनना चाहती है। जन्म दिनाँक 29/04/2001 समय 05/20 सुबह स्थान मंडला मध्य प्रदेश है। आगे किस विषय लेने से कैरीयर ठीक रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका लेख बहुत बढीया था ।
    गूरूजी मेरी एक परेशानी का हल किजीए।
    मेरा नाम अरविंद यादव हैं ।
    मेरी जन्मतिथी 1/12/1994
    समय 5:15 p.m. शाम को आजमगढ जिले मे हुआ हैं ।
    मैंने इलेकट्रोनिकस इंजीनियरिंग की हैं ।लेकिन मुझे अच्छी नौकरी कब मिलेगी। मैं दो साल से घर पर बैठा हू।मुझे सरकारी नौकरी कब मिलेगी।कृपया करके बताएं,मैं बहुत परेशान हू।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरी जन्म तारीख 1/12/1994 हैं।
    जन्म समय 5:15 मिनट शाम को हैं ।
    जन्मस्थान आजमगढ U.P. हैं।
    आप की कृपा से मुझे नौकरी लग गई
    मैं आपका आभारी हूं । मैं यह जानना चाहता हूं कि मैं कौन सा रत्न धारण करूं जिससे मुझे सफलता मिलती रहे ।और रत्न कैसे पहनूं।

    उत्तर देंहटाएं